• Hindi Information
  • Native
  • Chandigarh
  • The Accused, Who Did Not Seem In The Courtroom For 14 Years, Did Not Get Anticipatory Bail, The Accused Mentioned That There Was No Info About The Case

चंडीगढ़eight घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

फाइल फोटो

15 साल पुराने चोरी के एक मामले में जिला अदालत ने आरोपी की जमानत याचिका खारिज कर दी। आरोपी लुधियाना के पास गांव मंगली टांडा का रहने वाला गुरनाम सिंह है। गुरनाम सिंह के खिलाफ 2005 में सेक्टर-31 थाना पुलिस ने केस दर्ज किया था। लेकिन गुरनाम 2006 के बाद कोर्ट में पेश ही नहीं हुआ। इस दौरान वह विदेश भी घूमता रहा था।

अब जब वह भारत आया तो उसने इसी केस में गिरफ्तारी से बचने के लिए अग्रिम जमानत अर्जी दायर कर दी।जमानत अर्जी में गुरनाम ने कहा कि वह three अप्रैल 2006 को आखिरी बार कोर्ट में पेश हुआ था। लेकिन उसके वकील ने उससे कहा कि उसका चोरी का केस खत्म हो गया है इसलिए उसे पेश होने की जरूरत नहीं है।

इस वजह से वह विदेश चला गया। जबकि उसका केस अभी चल रहा था। लेकिन अब उसे किसी से जानकारी मिली कि उसका केस तो अभी खत्म नहीं हुआ है, जिसके बाद वह भारत वापस आया और वह हर पेशी पर आने को तैयार है। इसलिए उसने गिरफ्तार न किए जाने की मांग की है। वहीं, सरकारी वकील ने दलील दी कि आरोपी झूठी कहानी बना रहा है। उसे कोर्ट भगौड़ा करार दे चुकी है।

ऐसे में ये कैसे मुमकिन हो सकता है कि उसे केस के बारे में जानकारी ही न हो। उसे केस के बारे में सब पता था और वह जानबूझकर पेश नहीं हो रहा था। दोनों पक्षों की बहस सुनने के बाद कोर्ट ने गुरनाम सिंह की अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दी।

ये था मामला

30 मई 2005 के इस केस के मुताबिक पुलिस को सूचना मिली थी कि इंडस्ट्रियल एरिया फेज-2 में चोरी हो गई है। वहां एक दुकान का ताला तोड़कर चोर ने 2 लाख 40 हजार रुपए, कूलर, टेबल और कंप्यूटर चोरी कर लिया था।

इसके बाद सेक्टर-31 थाना पुलिस ने केस दर्ज किया था। जांच के बाद पुलिस ने गुरनाम को गिरफ्तार कर लिया था। हालांकि कोर्ट से गुरनाम को जमानत मिल गई थी लेकिन वह कई साल से कोर्ट में पेश ही नहीं हुआ।



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *