}; (function(d, s, id){ var js, fjs = d.getElementsByTagName(s)[0]; if (d.getElementById(id)) {return;} js = d.createElement(s); js.id = id; js.src = "https://connect.facebook.net/en_US/sdk.js"; fjs.parentNode.insertBefore(js, fjs); }(document, 'script', 'facebook-jssdk'));


  • Hindi Information
  • Native
  • Haryana
  • Snowfall In The Mountains Introduced The Evening Temperature To six.9 Levels, Now Two Days Chilly Wave Will Persecute

Advertisements से है परेशान? बिना Advertisements खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

हरियाणा40 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

फाइल फोटो।

  • रात का पारा सामान्य से करीब छह डिग्री व दिन का सात डिग्री कम, जल्द ही अल सुबह दस्तक देगी धुंध

पहाड़ों पर बर्फबारी से मौसम में तेजी से परिवर्तन हो रहा है। दिसंबर के आखिरी व जनवरी के प्रथम सप्ताह में चलने वाली शीत लहर समय से पहले ही आ चुकी है। आईएमडी के वैज्ञानिकों के अनुसार 21 व 22 को शीतलहर चलने की संभावना है। हिसार में रात का पारा 6.9 डिग्री पर आ गया है, जो सामान्य से करीब छह डिग्री कम रहा। नारनौल और सिरसा में यह 7 डिग्री दर्ज किया गया है।

दिन का तापमान भी फिलहाल सामान्य से सात डिग्री तक कम चल रहा है। एक से 20 नवंबर तक प्रदेश में 5.5 एमएम बरसात भी हो चुकी है, जो सामान्य से 188 फीसदी अधिक है। इधर, पहाड़ों में भी ठंड बढ़ रही है। मनाली में शुक्रवार को पारा 0.four डिग्री और शिमला में 5.Zero डिग्री दर्ज किया गया, जबकि सोलन में रात का तापमान 3.5 डिग्री पर आ गया।

कहां कितना रहा तापमान

हिसार 6.9 डिग्री नारनौल 7.Zero डिग्री सिरसा 7.9 डिग्री अम्बाला 10.2 डिग्री भिवानी 9.Three डिग्री फरीदाबाद 7.5 डिग्री गुड़गांव 10.Zero डिग्री करनाल 8.5 डिग्री कुरुक्षेत्र 10.Zero डिग्री रोहतक 8.Eight डिग्री

दिन में दो दिन और बढ़ेगी ठंडक

अब न केवल रात बल्कि दिन में भी ठंडक बढ़ने लगी है। रोहतक में दिन का तापमान शुक्रवार को 22.Three डिग्री रह गया, जो सामान्य से सात डिग्री कम आंका गया है। इसके अलावा हिसार, करनाल में भी दिन का पारा सामान्य से काफी कम रहा है। अगले दो दिनों में यह और कम होने की संभावना बन सकती है।

इस कारण बदला मौसम का मिजाज

  • मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि पहाड़ों में हुई बर्फबारी से मौसम में यह बदलाव आया है।
  • प्रदेश के कुछ इलाकों में ओलावृष्टि के कारण भी दिन-रात का पारा कम हो गया है।
  • हकृवि के कृषि मौसम विज्ञान विभाग के अध्यक्ष डॉ. मदन खीचड़ ने कहा कि प्रदेश के कुछ इलाकों में सुबह हल्की धुंध छा सकती है।

गेहूं के लिए फायदेमंद

  • अब तक 13 लाख हेक्टेयर में रबी फसलों की बिजाई हो चुकी है। इसमें से 7 लाख हेक्टेयर में गेहूं भी शामिल है।
  • कृषि अधिकारियों का कहना है कि इस मौसम से गेहूं का जमाव सही होगा।
  • ठंडक ऐसी ही देर तक बनी रही तो फुटाव भी अच्छा हो सकता है।



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *