बांसवाड़ा7 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • जिला प्रशासन और गांधी जीवन दर्शन समिति की ओर से वेबिनार का आयाेजन

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी 150वीं जयंती वर्ष के उपलक्ष्य में जिला प्रशासन बांसवाड़ा एवं गांधी जीवन दर्शन समिति बांसवाड़ा के संयुक्त तत्वाधान में गांधी विचार शपथ कार्यक्रम के अंतर्गत इरेडिकेशन आफ पॉवर्टी एंड अनइंप्लॉयमेंट प्रॉब्लम प्रमोशन ऑफ खादी एंड विलेज इंडस्ट्रीज विषय पर वेबिनार का आयोजन किया गया। इसकी अध्यक्षता अध्यक्षता अतिरिक्त जिला कलेक्टर नरेश बुनकर ने की।

मुख्य वक्ता पूर्व विभाग अध्यक्ष कॉमर्स विभाग राजस्थान विश्वविद्यालय जयपुर के प्रोफेसर सोमदेव ने गांधी वांग्मय का जिक्र करते हुए कहा इसमें गरीबी उन्मूलन के कई व्यावहारिक उपाय सुझाए गए हैं। उन्होंने कहा कि अकाल और महामारी के विरुद्ध ग्रामीण उद्योग ही सबसे प्रभावी बीमा दे सकते हैं। बड़े उद्योगों से उत्पादन तो बढ़ सकता है लेकिन बेरोजगारी पर प्रभावी नियंत्रण के लिए खादी एवं ग्रामीण उद्योगों की तरफ से आना पड़ेगा।

गांव स्तर पर लगने वाले छोटे-छोटे उद्योग व्यक्ति को पलायन करने से रोकेगा। स्थानीय भौतिक एवं मानवीय संसाधनों का प्रभावी उपयोग कर समस्या समाधान की दिशा में बढ़ सकते हैं। मुख्य अतिथि महात्मा गांधी जीवन दर्शन समिति बांसवाड़ा के संयोजक रमेश पंड्या ने कहा कि अतीत के सबक वर्तमान में भी प्रासंगिक हैं। कई कुटीर उद्योग जिसमें लुहारी, सुथारी सहित छोटे बड़े कार्य किए जा सकते हैं उनको बढ़ावा देना पड़ेगा। श्रम का महत्व जब स्थापित होगा तभी जाकर सरकारी नौकरियों का आकर्षण कम हो पाएगा। आत्मनिर्भर व्यवस्था के लिए हर स्तर पर प्रयास अपेक्षित है। माही बांध बनने के बाद कृषकों का जो

पलायन रुका उस पर भी प्रकाश डाला। विशिष्ट अतिथि सह संयोजक विकेश मेहता ने कोरोना काल के दौरान उद्योगों पर जो प्रभाव पड़ा उसकी जानकारी दी। ऋण सुविधाओं का प्रचार प्रसार करने की आवश्यकता बताई ताकि छोटे उद्यमी आर्थिक कारणों से अपना कार्य नहीं रुके। उन्होंने स्थानीय उत्पादन को बढ़ावा देने एवं उपभोक्ताओं द्वारा उसे खरीदे जाने की आवश्यकता पर बल दिया । कार्यक्रम का संचालन गोविंद गुरु जनजातीय विश्वविद्यालय के शोध निदेशक डॉ.अशोक काकोड़िया ने किया।



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed