नागदा20 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

दिवंगत किसान रतनलाल पुरोहित।

  • 5 आरोपी गिरफ्तार, ब्लैंक चेक सहित अन्य दस्तावेज जब्त, मृतक के माेबाइल की भी हाे रही जांच
  • लिस ने सुसाइड नाेट में दर्ज 9 नामाें में से 5 लाेगों काे गिरफ्तार कर पूछताछ शुरू कर दी है

शहर में सूदखाेरी के अब तक तीन मामले दर्ज हाे चुके हैं। तीसरे मामले में गुरुवार काे संखवाल नगर रतलाम हालमुकाम जामुन चाैक निवासी 48 वर्षीय रतनलाल पुराेहित ने सूदखाेरी से परेशान हाेकर आत्महत्या कर ली। शुक्रवार काे पुलिस ने सुसाइड नाेट में दर्ज 9 नामाें में से 5 लाेगों काे गिरफ्तार कर पूछताछ शुरू कर दी है।

पुलिस सुसाइड नाेट में लिखी हर बात की गहराई तक जांच कर रही है। मंडी पुलिस ने ब्लैंक चेक सहित अन्य दस्तावेज बरामद भी किए हैं। वहीं मृतक के माेबाइल की भी जांच की जा रही है, क्योंकि सुसाइड नाेट में कुछ बातें माेबाइल संबंधित लिखी हुई है ताे वहीं मृतक की माैत के बाद भी कुछ मैसेज आए हैं।

जानकारी के मुताबिक मृतक रतनलाल ने एक नहीं बल्कि दाे सुसाइड नाेट लिखे थे और दाेनों में ही 9 लाेगों का ही जिक्र है। पहला सुसाइड नाेट सुबह 8.17 बजे लिखा था, जाे घटनास्थल पर बरामद हुआ था। वहीं दूसरा सुसाइड नाेट सुबह 11 बजे लिखा था। यह सुसाइड नाेट पुलिस काे मृतक की जेब से मिला था। यानी सूदखाेराें से परेशान हाेकर रतनलाल ने माैत काे गले लगाने का निर्णय कर रखा था।

चक्रव्यूह : रतनलाल को आत्महत्या करने के लिए ऐसे कर दिया मजबूर
मेहरबान गुर्जर- लाेडिंग वाहन के लिए 70 हजार रुपए और 15 हजार रुपए नकद दिए। ब्लैंक चेक भी लिया। रुपए नहीं दिए और जान से मारने की धमकी दी।
राजेश मकवाना- मृतक के चेक से ही बाजार से रुपया उठाया। बाद में मृतक काे ही 10 प्रतिशत में रुपया दिया और ब्लैकमेल करता था।
गाेविंद सेन- मृतक का चेक बाजार में लगाया और राेजाना परेशान करता था।
राधेश्याम चाैहान- राेज पैसे के लिए परेशान करता था। ओमजी की फाइल का पैसा वसूलता था और ब्याज भी लेता था।
पिंटू नागदा- मृतक की फाइल बनाई, चेक लिया, लेकिन पैसा आधा ही दिया।
माेहनलाल शर्मा- मकान मालिक लाॅकडाउन के समय के रुपए वसूलने के बाद भी बर्तन फेंकने की धमकी देता था। रुपए देने के बाद भी परेशान करता था।
रमेशचंद्र पांडे, मनाेज पांडे रतलाम वाला व सुरेश दुबे- पैसे के लिए परेशान करते थे।

मकान का किराया, दाढ़ी-कटिंग और किराने के सामान की भी थी उधारी
मंडी पुलिस ने शुक्रवार काे मकान मालिक माेहनलाल शर्मा, मेहरबान गुर्जर (डाबरी वाला), राकेश मकवाना (घर के सामने वाला), गाेविंद सेन (पाड़ल्या राेड), राधेश्याम चाैहान टेलर (पाड़ल्या राेड) काे गिरफ्तार कर लिया है। वहीं रमेशचंद्र पांडे (रतलाम वाला), सुरेश दुबे (मंदसाैर वाला), मनाेज रमेश पांडे (रतलाम वाला), पिंटू (नागदा) की तलाश पुलिस कर रही है। सूत्राें के अनुसार पूछताछ में माेहनलाल शर्मा ने किराए के पैसे बाकी हाेने, गाेविंद सेन ने दाढ़ी-कटिंग के रुपए बाकी हाेने व एक ने किराना सामान की राशि उधार हाेने की बात कही है।

शहर में सूदखाेरी का गणित : ब्लैंक चेक लेकर पहले ही काट लेते हैं ब्याज, फिर किस्त बांधते
शहर औद्याेगिक क्षेत्र है। यहां लाेग मजदूरी या व्यापार करने आते हैं। ऐसे में मजदूर वर्ग जरूरताें काे पूरा करने के लिए ब्याज पर रुपए लेता है ताे व्यापारी व्यापार काे बढ़ाने के लिए रुपए कर्ज लेते हैं, पर इस कर्ज से उबर नहीं पाते हैं। सूदखाेरी का गणित शहर में अलग-अलग तरीके से चलता है। फाइल बनाकर ब्लैंक चेक लेते हैं, इसमें पहले ब्याज काट लिया जाता है और किस्त बांधते हैं।

अगर समय पर किस्त आए ताे काेई बात नहीं, नहीं आती है ताे ब्याज दाेगुना हाेने लगता है और कर्ज की राशि बढ़ने लगती है। फाइल के अलावा Three से लेकर 10 प्रतिशत तक ब्याज का खेल अलग चलता है। यही नहीं, निर्धारित तारीख तक ब्याज नहीं देने पर चक्रवृद्धि ब्याज शुरू हाे जाता है।

कर्जा एक्ट के साथ धारा 306 में भी दर्ज प्रकरण
मंडी पुलिस ने 9 लाेगों पर मप्र ऋणी संरक्षण अधिनियम की धारा 3/4, 384 व धारा 306 यानी आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला भी दर्ज किया है। अभिभाषक शैलेंद्रसिंह चाैहान ने बताया कर्जा एक्ट के साथ धारा 306 हाेने से आराेपी पक्ष काे तत्काल जमानत नहीं मिल पाती है। 15 से 30 दिन बाद ऐसे आराेपी पक्ष की जमानत मंजूर होती है।

इधर डीजे वाले काे मिली जमानत
प्रकाशनगर निवासी नीतेश की शिकायत पर पुलिस ने उमरना निवासी अबरारउद्दीन पर कर्जा एक्ट में प्रकरण दर्ज किया था। न्यायालय से अबरारउद्दीन काे जमानत मिल गई है। अबरारउद्दीन ने कहा उसके पास बाकायदा उधार लिए गए रुपयों की नाेटरी व अन्य दस्तावेज हैं।



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *