रांची37 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दीपक प्रकाश ने कहा कि मार्च 2020 तक जीएसटी में राज्य की हिस्सेदारी का भुगतान केंद्र ने कर दिया है। (फाइल)

  • दीपक प्रकाश ने कहा- मुख्यमंत्री का विधानसभा क्षेत्र भी बहन-बेटियों के लिए सुरक्षित नहीं है
  • उन्होंने दावा करते हुए कहा- एनडीए दुमका और बेरमो उपचुनाव की दोनों सीटें जीतेगा

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दीपक प्रकाश ने कहा है कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन अपनी नाकामियां छुपाने के लिए कांग्रेस कार्यालय से तैयार स्क्रिप्ट पढ़ते हैं। राज्य में वित्तीय अराजकता फैली हुई है। सरकार कर संग्रह करने में विफल है। केंद्र सरकार द्वारा दी गई सहायता राशि को भी खर्च करने में फिसड्डी साबित हुई है।

डीवीसी के बकाये पर दीपक ने कहा कि मुख्यमंत्री बिजली चोरी रोकने, संचरण व्यवस्था सुधारने की जगह राशि काटने का आरोप लगाकर सुधारों से बचना चाहते हैं। आखिर डीवीसी कैसे चले, इसकी चिंता कौन करेगा? मुख्यमंत्री ने भाजपा सांसदों को सलाह दी थी कि कि वे इन मुद्दों को उठाएं, पर उन्हें यह बताना चाहिए कि उनकी पार्टी के सांसद राज्य से संबंधित कितने सवाल सदन में उठाते हैं। पर, भाजपा के सभी सांसद सदन में राज्य के मुद्दे पर लगातार सक्रिय रहते हैं। वे सिर्फ प्रश्न नहीं पूछते हैं, बल्कि राज्य हित के मुद्दों का समाधान भी कराते हैं।

उन्होंने कहा कि गुरुजी ने 5 वर्षों में कोई भी सवाल नही किया, यह भी रिकॉर्ड में दर्ज है। प्रकाश ने कहा कि कोल इंडिया पर करोड़ों के बकाया का बयान बचकाना है। मुख्यमंत्री को बताना चाहिए कि कब और किस सरकार के समय का बकाया है? शिबू सोरेन भी कोयला मंत्री रहे। उन्होंने ऐसे बकायों के भुगतान के लिए क्या प्रयास किया? प्रेस वार्ता में प्रदेश मीडिया प्रभारी शिवपूजन पाठक थे।

मार्च 2020 तक जीएसटी में राज्य की हिस्सेदारी का भुगतान केंद्र ने किया
दीपक प्रकाश ने कहा कि मार्च 2020 तक जीएसटी में राज्य की हिस्सेदारी का भुगतान केंद्र ने कर दिया है। केंद्र सरकार ने कोरोना काल में मनरेगा की मजदूरी बढ़ाई, जिसका लाभ राज्य सरकार नहीं दे रही है। केंद्र सरकार ने कोरोना से बचाव के लिए 200 करोड़ के फंड दिए। किसानों के खाते में पैसे भेजे। जन-धन खाते में पैसे भेजे गए। परंतु, राज्य सरकार बताए कि कोरोना से बचाव के फंड का क्या हुआ? क्यों अनाज गोदामों में सड़ने दिए गए? डिस्ट्रिक्ट मिनिरल फंड की राशि का क्या उपयोग हुआ?

बसंत सोरेन ने दिया ओछा बयान
दीपक प्रकाश ने कहा कि झामुमो नेता बसंत सोरेन का बयान कि दुष्कर्मियों का निर्णय समाज पर छोड़ दें। उनकी विकृत मानसिकता का परिचायक है। मुख्यमंत्री के भाई से ऐसे ओछे बयान की उम्मीद नहीं थी। मुख्यमंत्री का विधानसभा क्षेत्र भी बहन-बेटियों के लिए सुरक्षित नहीं है। उम्मीद थी कि मुख्यमंत्री अपने दुमका दौरे में पीड़िता के परिजनों से मिलेंगे, पर आदिवासी बेटी-बहन के दर्द समझने का समय उनके पास नहीं है। वहीं, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ने दावा किया कि एनडीए उपचुनाव की दोनों सीटें जीतेगा। हेमंत सरकार के दावे की पोल खुल गई है। लाेगों का झुकाव भाजपा की ओर है।



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *