हमीरपुर2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

रविवार को कंडक्टर की परीक्षा देने पहुंचे युवक-युवतियां।

  • कोरोना के संकट में नौकरी की आस, बीए-एमए पास लड़कियां भी कंडक्टर परीक्षा देने पहुंची

कोरोना कॉल के बीच प्रदेश स्टाफ सिलेक्शन कमीशन की ओर से रविवार को टीएमपीए और क्लर्क के 500 से ज्यादा पदों को भरने के लिए लिखित परीक्षा का आयोजन किया। टीएमपीए कंडक्टर बनने की चाह लिए बीए-एमए से लेकर युवतियां तक इस परीक्षा में भाग लेने को पहुंची। दोनों परीक्षाओं के लिए राज्य भर से एक लाख से ज्यादा आवेदन कमीशन के पास पहुंचे थे हालांकि छह हजार के करीब आवेदन इस दौरान रद्द भी हो चुके थे।

युवतियों अंजना, अनीता समेत अन्य का कहना था कि वह भी नौकरी की चाहत रखती हैं। ऐसे में कंडक्टर पद के लिए उन्हें भी आवेदन करने का मौका मिला है तो वह पीछे क्यों रहे। नौकरी की तो हर किसी को आस होती है। वहीं बीए-एमए तक पढ़े देश कुमार, अनिल, राजेश अजय समेत अन्य बेरोजगार युवाओं का कहना था कि नौकरी की जरूरत है। कोरोना काल ने वैसे ही बेरोजगारी को बढ़ा दिया है। पद कोई भी हो उनके लिए अप्लाई करना गलत नहीं है। परिवार का पालन पोषण करने के लिए नौकरी जरूरी है। बेशक एचआरटीसी के हमीरपुर डिपो की ओर से परीक्षाओं को देखते हुए जिला भर में 40 से ज्यादा रूटों पर अतिरिक्त बसें भेजी लेकिन के ग्रामीण क्षेत्रों में बसों की कमी के कारण कई युवा तो ट्राला जीपों, टैक्सियों में भी सफर कर परीक्षा केंद्रों तक पहुंचे। कई जगहों पर युवा मास्क को गले में लटका कर घूमते रहे तो कहीं सोशल डिस्टेंसिंग की भी खूब धज्जियां उड़ी।

यही नहीं कुछ परीक्षा केंद्रों पर तो थर्मल स्केनिंग तक की सुविधा नहीं थी। हालांकि हरेक परीक्षा भवनों के भीतर थर्मल स्कैनिंग से लेकर हैंडवाॅश, सेनेटाइजर तक की सुविधा उपलब्ध करवाने के दावे किए थे। जिला भर में कई सरकारी शिक्षण संस्थान से लेकर निजी संस्थानों तक में परीक्षा भवन स्थापित किए गए थे।

राज्य भर में बनाए थे 304 परीक्षा केंद्र : कमीशन की ओर से आयोजित इन दोनों परीक्षाओं के लिए राज्य भर में 304 कंडक्टर भर्ती परीक्षा के लिए और क्लर्क परीक्षा के लिए 220 के करीब परीक्षा केंद्र बनाए थे। टीएमपीए के लिए करीब 550 से ज्यादा पद भरे जाएंगे जिनके लिए 60,000 से भी ज्यादा आवेदन पहुंचे थे जिनमें बहुत से आवेदन रद्द भी हुए हैं।

प्रश्नपत्र में त्रुटियां : अभ्यर्थियों का कहना है कि जो प्रश्न पत्र उन्हें पहुंचा है उसमें त्रुटियां है। इनमें पहला जो सवाल परिवहन मंत्री के नाम का पूछा गया है उसमें जो ऑप्शन दी गई है उसमें महेंद्र सिंह, गोविंद सिंह, विपिन परमार और वीरेंद्र कमर का नाम जवाब के लिए प्रिंट किया है। इनमें किसी एक पर टीक करना था। जबकि इनमें कोई भी परिवहन मंत्री नहीं है, क्योंकि नया परिवहन मंत्री विक्रम सिंह को बनाया गया है। ऐसे में उन्होंने अब कमीशन से मांग की है कि इस प्रश्न के उन्हें अंक जोड़े जाएं।



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *