}; (function(d, s, id){ var js, fjs = d.getElementsByTagName(s)[0]; if (d.getElementById(id)) {return;} js = d.createElement(s); js.id = id; js.src = "https://connect.facebook.net/en_US/sdk.js"; fjs.parentNode.insertBefore(js, fjs); }(document, 'script', 'facebook-jssdk'));


नवांशहरfour घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

जिले में धान की सरकारी खरीद का आंकड़ा four लाख मीट्रिक टन पार कर गया है। हालांकि जिले में धान का झाड़ बढ़ा है, मगर कहा यह भी जा रहा है कि जिले की मंडियों में धान बाहरी राज्यों से भी आया है। मगर इस संबंध में खुले में कोई तस्वीर जो जिले से संबंधित है, वह सामने नहीं आई है। इसके बावजूद यह जांच का विषय है। मगर मंडियों में आमद व खरीद की बात करें तो मंडियों में अभी भी 3600 मीट्रिक टन की आमद हो रही है, जिसके चलते अंदाजा लगाया जा सकता है कि मंडियों में धान की आमद व खरीद का आंकड़ा four लाख 10 हजार मीट्रिक टन से पार होने की संभावना है।

जिला मंडी अधिकारी स्वर्ण सिंह ने बताया कि जिले की मार्केट कमेटी नवांशहर, बंगा व बलाचौर में कुल four लाख three हजार 230 मीट्रिक टन धान की खरीद की जा चुकी है। जिसके तहत खरीद एजेंसी पनग्रेन ने 1 लाख 48 हजार 665 एमटी, एफसीआई ने 6 हजार 482 एमटी, मार्कफेड ने 1 लाख 5 हजार 599 एमटी, पनसप ने 1 लाख four हजार 326 एमटी, वेयर हाउस ने 33 हजार 870 एमटी व प्राइवेट ने four हजार 288 एमटी धान की खरीद की है।

यूपी से चोरी छिपे धान नवांशहर पहुंचने की रही चर्चा

जिले में धान की आमद four लाख एमटी पार होने से कहीं न कहीं यूपी व पड़ोसी राज्यों से चोरी छिपे धान जिला मंडियों में पहुंचने की चर्चा को सच साबित करता लग रहा है। हालांकि जिले मे कहीं भी इस बात की पुष्टि नहीं हुई है। मगर कयास लगाया जा रहा है कि भले ही झाड़ बढ़ा हो इसके बावजूद बिना बाहरी राज्यों से धान आए आंकड़ा इतना ऊपर नहीं जा सकता। जिले की मंडियों में धान की आमद बीते सालों में कम व बढ़ती ही रही है।

मंडियों में बाहरी राज्यों से आया है धान
किरती किसान यूनियन के नेता सुरिंदर सिंह बैंस और आम आदमी पार्टी नेता गगन अग्निहोत्री का कहना है कि जिले में धान का झाड़ बढ़ा है, मगर साथ ही कहीं न कहीं चोरी-छिपे मंडियों में धान की आमद भी जरूर हुई है। उन्होंने कहा कि बाहरी राज्यों से आए धान की वजह से ही मंडियों में खरीद का आंकड़ा four लाख मीट्रिक टन पार हुआ है।



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *