रोहतक6 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

प्रधान घोषित होने के बाद समर्थकों के साथ खड़े डॉ. सुरेश।

  • बोहर में नांदल खाप की बैठक में दाे गुट हुए आमने-सामने, प्रधान काे लेकर नहीं बन सकी सर्वसम्मति

लंबे समय से बोहर में नांदल खाप के प्रधान पद को लेकर चल रहा विवाद शनिवार को बढ़ गया। इस मामले में बोहर गांव की चौपाल में शनिवार को एक बैठक आयोजित की गई। इसमें प्रधानी को लेकर फैसला किया जाना था, लेकिन दो गुटों के बीच पंचायत में तनातनी ज्यादा बढ़ गई। एक गुट ने बैठक को ही असंवैधानिक करार दिया तो दूसरे ने अपने प्रधान की घोषणा करने का ऐलान कर दिया। प्रधान पद को लेकर एकमत न होने के चलते बैठक सिरे नहीं चढ़ी। कुछ लाेग बैठक से चले गए।

ग्रामीणों के एक धड़े ने ऐलान किया कि वे नांदल खाप के प्रधान ओमप्रकाश नांदल के साथ खड़े हैं। वे पिछले four सालों में नांदल खाप व नांदल भवन में हुए विकास कार्यों से पूरी तरह संतुष्ट हैं। इसके बाद नांदल भवन पहुंचकर प्रधान ओमप्रकाश नांदल को आजीवन प्रधान पद पर बने रहने के लिए समर्थन दिया। ओमप्रकाश नांदल ने कहा कि खाप के विधान के अनुसार खाप प्रधान का कार्यकाल आजीवन है। इसके साथ-साथ पिछली नांदल कल्याण समिति के संविधान में जो त्रुटियां थीं उनको हटा दिया गया है।

डाॅ. सुरेश नांदल काे सर्वसम्मति से चुना : पार्षद
वहीं, महेंद्र नांदल गुट ने बताया कि डाॅ. सुरेश कुमार नांदल को नांदल खाप का प्रधान चुन लिया है। उन्होंने बताया कि शनिवार नवरात्रों के प्रथम दिवस गांव बोहर स्थित चौपाल में नांदल खाप के मौजिज लोगों की पंचायत का आयोजन किया गया, जिसमें सर्वसम्मति से यह चुनाव संपन्न हुआ। खाप पंचायत की अध्यक्षता नांदल अठगामा के प्रधान बलराज नांदल ने की। गांव बोहर नांदल खाप का तपेदार गांव है। बोहर से नगर पार्षद जयभगवान ने बताया कि पिछले कुछ समय से चुनाव के संदर्भ में खाप की बैठक नहीं हो पा रही थी। आज की पंचायत में डाॅ. सुरेश नांदल के नाम पर सहमति बनी। इसके बाद मौजिज सदस्य बोहर स्थित बाबा मस्तनाथ के डेरे में गए और महंतों का आशीर्वाद लिया।



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *