• Hindi Information
  • Native
  • Bihar
  • Nitish Mentioned In Buxar If You Get An Alternative, You Will Create New Expertise, Create Worldwide Dialogue About Improvement, However Opponents Are Discovering Out

पटना2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

बक्सर में नीतीश कुमार ने लालू-राबड़ी पर फिर से निशाना साधा। कहा पति अंदर गए तो पत्नी को बाहर बैठा दिया।

  • फिर साधा लालू-राबड़ी पर निशाना, कहा- पति अंदर गए तो पत्नी को बाहर बैठा दिया
  • हमने बिना भेदभाव के हर तबके का विकास किया, महिलाओं को बराबर का अवसर दिया

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बक्सर और चौसा में आयोजित चुनावी सभा में युवाओं को रोजगार देने की बात कही। तकनीक से रोजगार सृजन पर जोर देते हुए उन्होंने कहा कि हमने बिहार के चौतरफा विकास के लिए अनगिनत काम किए हैं। अब मौका मिला तो नई तकनीक पर जोर देंगे। हर जिले में संस्थान स्थापित करेंगे, ताकि लोगों को बाहर जाना नहीं पड़े। बक्सर विधानसभा से भाजपा के प्रत्याशी परशुराम चौधरी के पक्ष में वोट मांगने के दौरान उन्होंने विपक्षी दलों पर जमकर निशाना साधा।

पति अंदर गए तो पत्नी को बैठा दिया
नीतीश कुमार ने लालू-राबड़ी पर एक बार फिर से चुटकी लेते हुए कहा- पति अंदर गए तो पत्नी को बैठा दिया। पहले बिहार का क्या हाल था, यह बात किसी से छिपी नहीं है।अपराध और नरसंहार का बोलबाला था। 2018 के राष्ट्रीय अपराध ब्यूरो के आंकड़े को देखें तो अब बिहार 23वें नंबर पर नीचे चला गया है। हमलोगों को मौका मिला तो न्याय यात्रा निकाली। किसी की उपेक्षा नहीं की। हाशिये के तबके के लिए विशेष काम हुआ। महिला सशक्तीकरण पर बल दिया। अल्पसंख्यकों के लिए काम किया। बिहार ने महिलाओं को पचास प्रतिशत आरक्षण दिया। बेटियों को साइकल दी तो उनका आत्मविश्वास बढ़ा।

बिहार के काम की चर्चा दुनियाभर में और विरोधी निकाल रहे खोट
नीतीश कुमार ने चुनावी सभा में काम भी गिनाए, वादे भी किए और विरोधियों पर निशाना भी साधा। कहा, हमने बिना भेदभाव के हर तबके के विकास के लिए काम किया है। महिलाओं को बराबर का अवसर दिया। विरोधियों पर निशाना साधते हुए कहा कि आज बिहार के काम की चर्चा देश ही नहीं, दुनियाभर में हो रही है और कुछ लोग उसमें खोट निकालने में लगे हैं। हमलोग काम करने वाले लोग हैं। आप ने जब भी मौका दिया हर बार दोगुना काम किया। मौका मिला तो आगे भी करेंगे। हमारे लिए पूरा बिहार ही परिवार है। जो लोग पति-पत्नी और बाल-बच्चों तक ही सीमित हैं, मैं उनकी बात नहीं करूंगा। हमने काम किया है और मौका देंगे तो आगे भी काम करेंगे।

बिहार की विकास दर में महिलाओं और पुरुषों का बराबर का योगदान
साइकल मिली तो लड़कियों का आत्मविश्वास बढ़ा। महिलाओं में जागृति आई। विश्व बैंक से कर्ज लेकर दस लाख जीविका समूह का लक्ष्य हासिल किया। बिहार की विकास दर में आज महिलाओं और पुरुषों का बराबरी का योगदान है। पहले सरकारी अस्पतालों का बुरा हाल है। एक सरकारी अस्पताल में एक महीने में औसतन अब दस हजार मरीज जाते हैं। साढे दस प्रतिशत प्रति व्यक्ति आय की दर में वृद्ध हुई है। हम सब लोगों ने बिहार को आगे बढाने का काम किया है। बिहार तरक्की की राह पर है। भोजपुर के तरारी विधानसभा क्षेत्र में आयोजित सभा में नीतीश कुमार ने कहा कि अब कोई अपना कंधा किसी को बंदूक चलाने को देने के लिए तैयार नहीं है। अब कोई गरीबों को बेवकूफ नहीं बना सकता। हमलोगों ने महिलाओं के लिए आरक्षण लाया जिससे महिला जनप्रतिनिधियों की संख्या में काफी बढ़ोत्री हुई।



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *