रांचीकुछ ही क्षण पहले

  • कॉपी लिंक

लापुंग के दुर्गा मंदिर में नवरात्र का अनुष्ठान कराते मुख्य पुजारी।

  • माता ब्रह्मचारिणी को तप की देवी कहा जाता है
  • नियमित पूजन करने वाले ले रहे ऑनलाइन संकल्प

राजधानी रांची समेत पूरे झारखंड में कलश स्थापना के साथ नवरात्र की शुरुआत हो चुकी है। शारदीय नवरात्र के दूसरे दिन रविवार को मां दुर्गा के दूसरे स्वरूप माता ब्रह्मचारिणी की पूजा की गई। माता ब्रह्मचारिणी को तप की देवी कहा जाता है। इस दौरान राजधानी रांची समेत पूरे झारखंड में माता मंदिर में भक्त जुटे और पूजा की। इस दौरान मंदिरों में आने लोग मास्क लगाए नजर आए और सोशल डिस्टेंस का भी ध्यान रखा।

कोरोनावायरस के कारण पूजा के भी स्वरूप बदलता जा रहा है। छिन्नमस्तिका मंदिर में रविवार को शारदीय नवरात्र के पहले दिन दूरदराज के श्रद्धालु हवन अनुष्ठान और पूजा समय के लिए नहीं पहुंचे। परंतु, ऐसे दर्जनों श्रद्धालु, जो यहां हर साल नियमित हवन करते हैं, वैसे श्रद्धालु पुजारियों के माध्यम से मोबाइल द्वारा ऑनलाइन संकल्प लिया।

दुर्गाबाटी में 137 साल की टूटेगी परंपरा
इधर, रांची स्थित दुर्गाबाटी के शेतांक सेन ने बताया कि इस वर्ष दुर्गाबाटी में 137 साल की परंपरा टूटेगी। प्रतिमा पहली बार 12 से 14 फीट से घटा कर four फीट होगी। बताया कि दुर्गा बाटी में कलश स्थापना की परंपरा नहीं है। उसके जगह पर कल्पारम्भ होता है। कोरोना बीमारी को देखते हुए क्योंकि कई लोग दुर्गाबाटी नहीं आ पाएंगे, वे इंटरनेट पर सर्च कर ऑनलाइन पूजा में शामिल हो सकते हैं। चढ़ावा भी इसी साइट से चढ़ा सकते हैं।

170 सीसीटीवी से मॉनिटरिंग, कंट्रोल रूम में विशेष टीम बनी
वहीं, दुर्गा पूजा में सुरक्षा व्यवस्था पर रांची सिटी एसपी सौरभ ने दावा किया है कि पुख्ता तैयारी है। आपराधिक किस्म के लोगों पर पुलिस की नजर है। किसी भी स्थान पर गड़बड़ी की सूचना पर तुरंत कार्रवाई होगी चौक-चौराहों पर लगे 170 सीसीटीवी कैमरे से निगरानी की जाएगी। इसकी जिम्मेवारी कंट्रोल रूम में एक विशेष टीम को दी गई है। पूजा पंडाल में भी लगे सीसीटीवी से नजर रखी जाएगी, ताकि पंडाल के आसपास में गड़बड़ी होने की स्थिति में तुरंत कार्रवाई की जा सके। सादे लिबास में अफसर पेट्रोलिंग करेंगे रहेंगे।

मूरी में मां की पूजा करते श्रद्धालु।

मूरी में मां की पूजा करते श्रद्धालु।

पूजा में इंजीनियरों और कर्मियों की छुटि्टयां रद्द
इधर, कोविड-19 को लेकर जारी गाइडलाइन के अनुसार इस बार दुर्गा पूजा के दौरान पंडालों में आकर्षक लाइटिंग नहीं रहेगी। पंडालों में रोशनी के लिए लाइट की व्यवस्था होगी। इसके बाद भी बिजली वितरण निगम पूजा को लेकर अपनी तैयारी को अंतिम रूप देने में जुटा है। इसको लेकर 18 तक सारे मेंटेनेंस कार्य को पूरा करने का निर्देश है। पूजा के मद्देनजर सबस्टेशन से लेकर सड़क के बिजली तारों तक कई कार्य किया जा रहा है। हर दिन मेंटेनेंस कार्य को लेकर कहीं न कहीं किसी क्षेत्र में पावर शट डाउन लिया जा रहा है। सब स्टेशनों में जंफर, पावर ट्रांसफॉर्मर के ऑयल, यूसीबी, आर्थिंग, बैटरी लेबल आदि को चेक किया जा रहा है, कमी होने पर उसे दुरुस्त किया जा रहा है।



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *