• Hindi Information
  • Native
  • Punjab
  • Assembly Of 30 Farmer Teams In Chandigarh At this time, New Coverage Will Be Introduced For Cancellation Of Agricultural Legal guidelines

अमृतसर41 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • अमृतसर, फाजिल्का और फिरोजपुर में ट्रैक पर बैठे किसान

कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के रेल रोको आंदोलन के 13वें दिन भी किसान जत्थेबंदियां अमृतसर, फिरोजपुर, मोगा, बठिंडा, जलालाबाद, संगरूर, बरनाला और फाजिल्का में ट्रैक पर बैठी रहीं। किसानों ने रोपड़, फाजिल्का और संगरूर में टोल प्लाजा पर और शहरों में धरने और रोष प्रदर्शन किए। बठिंडा के रामपुरा फूल में किसानों ने अर्धनग्न होकर प्रदर्शन किया।

अमृतसर में किसान मजदूर संघर्ष कमेटी ने देवीदासपुरा में रेलवे ट्रैक पर कांग्रेस, आप और अकालियों के पुतले फूंके। किसानों ने कहा कि कांग्रेस पार्टी भी कृषि विरोधी कानूनों के लिए उतनी ही जिम्मेदार है जितना मोदी सरकार। फसलों की खरीद प्राइवेट एजेंसियों को बिना मार्केट फीस दिए सिर्फ पैन कार्ड से कराने की छूट से मंडी का ढांचा तबाह हो जाएगा।

उन्होंने मांग की कि स्वामीनाथन कमीशन की रिपोर्ट लागू कर फसलों के रेट 50% मुनाफा जोड़कर दिए जाएं। तीनों किसान विरोधी कानून रद्द किए जाएं। इधर, लुधियाना-चंडीगढ़ हाईवे पर समराला टोल प्लाजा को घेर किसानों ने धरना लगाया और टोल पर्ची नहीं काटने दी। वाहनों को बिना पर्ची कटवाए ही गुजारा गया।

समराला में भी किसान रेलवे ट्रैक पर धरने पर बैठे और विरोध जताया। वहीं, किसान नेता हरमीत सिंह कादियां ने कहा कि अगली रणनीति बनाने को लेकर सभी 30 किसान संगठनों की संयुक्त बैठक चंडीगढ़ स्थित किसान भवन में 7 अक्टूबर को होगी। इसमें संघर्ष को और तेज किए जाने की नई रणनीति पर फैसला हाे सकता है।

किसान जत्थेबंदियों के विरोध के बाद भाकियू लक्खोवाल सुप्रीम कोर्ट से याचिका वापस लेगी
केंद्र के कृषि कानून को लेकर विभिन्न किसान जत्थेबंदियों के विरोध के चलते भारतीय किसान यूनियन लक्खोवाल ने सुप्रीम कोर्ट में दायर की रिट पिटीशन वापस लेने का एलान किया है। गुरुद्वारा श्री फतेहगढ़ साहिब में 13 विभिन्न किसान जत्थेबंदियों की बैठक हुई। भाकियू लक्खोवाल के प्रदेश अध्यक्ष अजमेर सिंह लक्खोवाल ने कहा कि बिल के खिलाफ लगातार आंदोलन कर रही किसान जत्थेबंदियों को सुप्रीम कोर्ट पर कोई भरोसा नहीं है क्योंकि कोर्ट पर सरकार का दबाव रहता है।

उन्होंने स्पष्ट किया कि अब तक सुप्रीम कोर्ट में उनकी रिट दाखिल नहीं हुई है और वकीलों को भी पिटीशन दाखिल न करने के लिए कहा गया है। भारतीय किसान यूनियन एकता के प्रदेश अध्यक्ष जगजीत सिंह ने कहा कि दूसरी जत्थेबंदियों ने लक्खोवाल की सुप्रीम कोर्ट में रिट पर विरोध जताया तो उन्होंने यकीन दिलाया कि पिटीशन वापस ली जाएगी। उनके आंदोलन में सभी उनके साथ हैं और अब तो विदेशों में भी पंजाबी इन बिलों का विरोध करने लगे हैं।

फतेहगढ़ साहिब से 11 और लुधियाना से कई भाजपाइयों का इस्तीफा
कृषि कानूनों पर भाजपा में भी बगावत शुरू हो गई है। फतेहगढ़ साहिब में मंगलवार को बैठक में शामिल भाजपा किसान मोर्चा के प्रदेश सचिव गुरदीप सिंह समेत 11 पदाधिकारियों ने त्यागपत्र पंजाब अध्यक्ष को भेजा है। कहा-कानून किसान विरोध है। वहीं, लुधियाना में भाजपा जिला सेक्रटरी जितेंद्र शर्मा के अलावा दोराहा मंडल प्रधान विनोद सहित पूरी कार्यकारिणी ने पदों से इस्तीफा दे दिया है।

बीजेपी सांसद मलिक की कोठी के बाहर किसानों ने दिया धरना
रियालटो चौक स्थित भाजपा सांसद श्वेत मलिक की कोठी के बाहर कीर्ति किसान संघ, आजाद किसान संघर्ष समिति और किसान संघर्ष समिति का संयुक्त धरना-प्रदर्शन छठे दिन भी जारी रहा। किसानों के समर्थन में बिजली कर्मचारी और शिक्षक भी शामिल हुए। बिजली मुलाजिम जत्थेबंदी के प्रधान मलकीत सिंह और डेमोक्रेटिक टीचर्स फ्रंट पंजाब के जिला अध्यक्ष अश्विनी अवस्थी ने कहा कि किसान विरोधी कानून के लिए किसानों के साथ सभी साथ हैं। सरकार यह न समझे कि सिर्फ किसान ही विरोध कर रहे तो यह लड़ाई उनकी है।



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *