}; (function(d, s, id){ var js, fjs = d.getElementsByTagName(s)[0]; if (d.getElementById(id)) {return;} js = d.createElement(s); js.id = id; js.src = "https://connect.facebook.net/en_US/sdk.js"; fjs.parentNode.insertBefore(js, fjs); }(document, 'script', 'facebook-jssdk'));


Advertisements से है परेशान? बिना Advertisements खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

चंडीगढ़16 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

नई दिल्ली स्थित विज्ञान भवन में केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और रेल मंत्री पीयूष गोयल से मुलाकात के लिए 30 किसान जत्थेबंदियां सहमत हो गई हैं। वीरवार को चंडीगढ़ में किसान जत्थेबंदियों की पांच घंटे तक चली मीटिंग में केंद्रीय मंत्रियों के साथ बातचीत के लिए तीन प्रतिनिधियों डाॅ. दर्शन पाल, बलबीर सिंह राजेवाल और कुलवंत सिंह संधू का चयन किया गया।

हालांकि मीटिंग में सभी किसान जत्थेबंदियों के प्रतिनिधि शामिल होंगे। किसान नेता हरमीत सिंह कादियां की अध्यक्षता में हुई मीटिंग में तीन केंद्रीय कानून रद्द होने तक संघर्ष जारी रखने, 18 नवंबर को चंडीगढ़ में रिव्यू मीटिंग और 26-27 नवंबर को ट्रैक्टर-ट्रालियां लेकर दिल्ली कूच करने का फैसला लिया गया। शुक्रवार को दिल्ली में केंद्रीय मंत्रियों के साथ बैठक में कोई सकारात्मक पहल होने पर रेलवे मालगाड़ियों के साथ-साथ 35 पैसेंजर ट्रेनों का भी परिचालन कर सकता है। त्योहारों के मद्देनजर 20 अक्टूबर से 30 नवंबर तक 35 स्पेशल ट्रेनें चलाई जा रही हैं। इनमें 17 फिरोजपुर मंडल की हैं। मंडल रेल प्रबंधक राजेश अग्रवाल ने कहा कि ट्रैक पूरी तरह खाली होने पर ट्रेनों का परिचालन शुरू कर दिया जाएगा।

ट्रैक्टर-ट्रालियों में राशन, तंबू लेकर दिल्ली कूच करेंगे
किसान जत्थेबंदियों ने चेतावनी दी है कि तीनों कृषि कानून रद्द न होने पर संघर्ष और तेज किया जाएगा। दिवाली पर मशालें लेकर कृषि कानूनों का विरोध करेंगे। भारती किसान यूनियन एकता (डकौंदा) के प्रधान बूटा सिंह बुर्जगिल ने बताया कि देशभर की 500 जत्थेबंदियों के नेतृत्व में 26-27 नवंबर को लाखों किसान ट्रैक्टर-ट्रालियों में राशन और तंबू लेकर दिल्ली जाएंगे।



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *