चंडीगढ़21 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

फाइल फोटो

शुक्रवार को लुधियाना में हुई लूट के आरोपी चंडीगढ़ में छिपे हुए थे। बीते दिनों शहर में हुई गोलीकांड के बाद चंडीगढ़ पुलिस को इसका पता नहीं लग पाया। फोर्स ने सूचना मिलने के बाद मकान मालिक के खिलाफ धारा 188 यानी अपने किराएदार की सूचना नहीं देने के तहत मामला दर्ज किया है, लेकिन इस घटना से यह साफ हो गया है कि चंडीगढ़ पुलिस द्वारा तैनात किया गया बीट स्टाफ अपने एरिया में कितना एक्टिव है।

वारदात को अंजाम देने वाले चंडीगढ़ में रहकर चले गए और यूटी पुलिस फोर्स को भनक तक नहीं लगी। बताया गया कि शुक्रवार को लुधियाना में मुथूट में एक लूट की वारदात को अंजाम दिया गया था। घटना के बाद लोगों ने आरोपियों को पकड़ लिया।

इसके बाद सूचना पुलिस को दी गई। जिस पर लुधियाना पुलिस ने पकड़े गए बाइक सवार लुटेरों को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने सेक्टर-22 के मकान मालिक के खिलाफ केस दर्ज किया है। मकान मालिक का कहना है कि आरोपी करीब 15 दिन पहले उनके मकान में रहने के लिए आए थे।

हालांकि इस बारे में चंडीगढ़ पुलिस द्वारा बात की गई तो उन्होंने लुधियाना लूट के साथ इनका संबंध होने से सीधे तौर पर मना कर दिया। हालांकि अचानक यूपी पुलिस फोर्स द्वारा एक एफआईआर करना इस पर सवालिया निशान खड़ा कर रहा है।

चंडीगढ़ बना गैंगस्टर्स का अड्डा…

हाल ही में देखा गया है कि पंजाब और हरियाणा के गैंगस्टर चंडीगढ़ में एक दूसरे पर वार कर रही हैं। इतना ही नहीं जेल में बैठकर आरोपी सोशल मीडिया पर पोस्ट भी शेयर कर रहे हैं कि चंडीगढ़ की सड़कों पर खून नहीं झुकेगा बावजूद इसके यूटी पुलिस फोर्स कितनी एक्टिव है इस घटना से साफ हो रहा है बाहर हाल शनिवार को ही दिनदहाड़े चाकू की नोक पर एक लूट हो गई।



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *