पाली10 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

खिनावड़ी गांव का युवक दिन में हादान बेरे पर रैकी करने आया।

  • आरोपी पूर्व सरपंच की बाइक लेकर हुआ फरार, ग्रामीणों में दहशत

जैतारण इलाके में प्रदीप राव नाम का कुख्यात हिस्ट्रीशीटर आतंक का पर्याय बनता जा रहा है। गत 2 अक्टूबर काे बिकरलाई हाल झूठा निवासी इसी हिस्ट्रीशीटर ने भीलवाड़ा के गंगापुर सिटी निवासी अपने साथी सुरेश भाट के साथ मिलकर खिनावड़ी गांव में 52 वर्षीय भारत भूषण चारण की गाेली मारकर हत्या की थी।

उसकी पहचान कर पुलिस पिछले पांच दिनाें से तलाश में घूम रही थी कि वह हुलिया बदल कर बुधवार शाम काे एक बार फिर खिनावड़ी गांव से कुछ दूरी पर स्थित अपने दाेस्त मांगीलाल कुमावत से लेनदेन का हिसाब करने पहुंचा।

इस दाैरान मांगीलाल वहां नहीं मिला ताे आराेपी प्रदीप उसके मकान की रैकी करने लगा। मांगीलाल के भाई पूर्व सरपंच भंवरलाल ने उसे पकड़ कर टाेका ताे आराेपी ने उसकी कनपटी पर पिस्टल तान दी। अाराेपी पूर्व सरपंच की बाइक लेकर फरार हाे गए।

आराेपी सुरेश।

आराेपी सुरेश।

आराेपी प्रदीप।

आराेपी प्रदीप।

पीड़ित पूर्व सरपंच कुमावत।

पीड़ित पूर्व सरपंच कुमावत।

खिनावड़ी हत्याकांड में गंगापुर का शातिर नकबजन सुरेश भाट था प्रदीप राव के साथ

2 अक्टूबर काे खिनावड़ी में बाइक लेकर जा रहे बदमाश प्रदीप राव व साथी सुरेश भाट का ग्रामीण भारत भूषण चारण ने पीछा कर प्रदीप राव काे पकड़ा, जिसके पास मादक पदार्थाें से भरी थैली थी। प्रदीप ने थैली से पिस्ताैल निकाल भारत भूषण पर दाे फायर किए, जिससे उसकी माैत हाे गई। बाद में आराेपी पिस्ताैल दिखा अपने साथी सुरेश भाट काे ग्रामीणाें के चंगुल से छुड़ाकर भाग गया था। आराेपी सुरेश भाट गंगापुर के नामी नकजबन है, जाे तस्करी में भी लिप्त है।

पुलिस तलाश नहीं पाई ताे रुपए लेने दाेस्त के घर पहुंचा
अपराधी प्रदीप राव व सुरेश भाट की तलाश में पुलिस दबिश दे रही थी, लेकिन वह नहीं मिला। बिरामीपुर मार्ग पर कृषि फार्म पर पूर्व सरपंच भंवरलाल कुमावत संयुक्त परिवार के साथ रहते हैं। छाेटे भाई मांगीलाल की प्रदीप राव से दाेस्ती है और दाेनाें के बीच लेनदेन था। बुधवार काे आराेपी प्रदीप किराए पर टेम्पाे लेकर मांगीलाल से रुपए लेने पहुंचा, लेकिन मांगीलाल नहीं मिला।

पुलिस से बचने के लिए उसने दाढ़ी-मूंछ व बाल कटवा दिए और हुलिया बदल मांगीलाल के मकान की रैकी कर रहा था। पूर्व सरपंच ने दाेस्त की मदद से उनकाे टाेका ताे वह टेम्पाे में सवार हाेकर भागने लगा। पूर्व सरपंच ने उसे रोका तो कनपटी पर पिस्ताैल तानी और बाइक लूट कर भाग गया।

कांस्टेबल काे भी गाेली मार चुका है, कुख्यात अपराधी बनने की सनक है सवार

आराेपी प्रदीप शुरू से ही अपराधी प्रवृति का रहा है। दाे बार नाबालिग से दुष्कर्म के मामले में जेल जा चुका है। उसके खिलाफ चाेरी-नकबजनी, लूट, पुलिस दल पर जानलेवा हमला, हथियार व मादक पदार्थाें की तस्करी के एक दर्जन से अधिक मुकदमे दर्ज हैं। 2012 में मादक पदार्थाें के साथ बिलाड़ा पुलिस ने उसकी घेराबंदी की ताे उसने कांस्टेबल काे गाेली मार दी थी, जिसमें वह गंभीर रुप से घायल हुआ था।



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *