हिसार13 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

फाइल फोटो।

  • अस्पताल संचालक बोले-आरोप निराधार हैं

भिवानी स्थित जैन चौक में रहने वाली कविता की शिकायत पर पुलिस ने तोशाम रोड स्थित निजी अस्पताल के स्टाफ व डॉक्टर के विरुद्ध धारा 323, 304 व 34 के तहत केस दर्ज हुआ है। सूचना मिलने पर डीएसपी राजबीर सैनी जांच के लिए अस्पताल पहुंचे थे। उन्होंने सीसीटीवी फुटेज भी देखी। डीएसपी सैनी ने बताया कि पुलिस ने शव का सिविल अस्पताल में पोस्टमार्टम करवाकर विसरा जांच के लिए लैब में भिजवाया है। उसकी रिपोर्ट आएगी, साथ ही मेडिकल बोर्ड का ओपिनियन लेकर कार्यवाही होगी।

वहीं पुलिस काे कविता ने बताया कि मेरा भाई तोशाम रोड वासी कर्ण की तबीयत खराब हुई थी। 21 सितंबर काे निजी अस्पताल में दाखिल करवाया था। 30 सितंबर को उसकी आंत का ऑपरेशन हुआ था। वह ठीक हो गया था। 5 अक्टूबर की रात करीब 12 बजे अस्पताल का स्टाफ भाई कर्ण के साथ मारपीट करता दिखा। इस वजह से उसकी तबीयत बिगड़ गई थी। आरोप है कि डॉक्टर ने भी उसे नहीं संभाला था। न ही इसकी हमें जानकारी दी थी। इसके चलते उसने दम तोड़ दिया था।

वहीं, महात्मा गांधी अस्पताल के संचालक डॉ. रमेश बिश्नोई ने बताया कि मरीज कर्ण पहले भी उपचार करवा चुका था। वह करीब 10 साल से एल्कोहलिक था। हाल में अस्पताल में दाखिल हुआ था तब वह काफी बीमार था। शरीर में तीन ग्राम खून था। इंफेक्शन शरीर में फैल गया था। निमोनिया हुआ तो वेंटिलेटर पर शिफ्ट किया था। वह काफी उत्तेजित हो गया था जिसे स्टाफ कर्मी नियंत्रित कर रहा था। उसने हाथ पकड़ा था। कर्ण नलकी हटा रहा था जिसे रोका था। उसकी बहन को गलतफहमी हुई थी। इसके बाद करीब 2 घंटे तक मरीज के पास उसकी बहन को आईसीयू में बैठा सामने ही इलाज जारी रखा था लेकिन वह दम तोड़ गया। डॉक्टर ने इलाज में लापरवाही नहीं बरती है।



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *