कालका20 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • नगर पालिका व नगर निगम नहीं कर पाया ठोस प्रबंध
  • अब नगर परिषद से उम्मीद, जल्द ही होगा इस समस्या का समाधान

स्वच्छता अभियान को लेकर स्थानीय निकाय विभाग कितना गंभीर है इस बात का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि कालका को आने वाली मेन रोड पर कालका क्षेत्र में जगह-जगह पर कूड़े का ढेर पड़ा है। वहीं 10 साल नगर निगम में रहने के बाद अब लोगों को नगर परिषद से उम्मीद है कि जल्द ही इस समस्या का समाधान हो पाएगा।

विभाग के अधिकारी दबी जबान में लोगों पर कूड़ेदान से बाहर कूड़ा गिराने के आरोप लगते हैं तो वहीं लोगों का यह कहना है कि सफाई कर्मी कूड़ा उठाने ही नहीं आते। इस सभी के बीच कालका हाउसिंग बोर्ड से लेकर काली माता मंदिर तक तीन-चार जगहों पर सडक़ों पर कूड़े का ढेर पड़ा देखा जा सकता है।

वहीं लावारिस पशु भी इसके अंदर मुंह मारते देखते हैं।लोगो ने कहा हजारों रुपए का टैक्स वसूलता है विभाग: स्थानीय निवासी लोगों नेे बताया कि कालका सेे परवाणू जाने वाली सड़क पर हाउसिंग बोर्ड के सामने, रेलवे पुल के पास, सोफिया स्कूल के पास मेन बाजार व गांधी चौक से कुछ ऊपर आकर निगम द्वारा डस्टबिन रखे गए हैं।

लोगों द्वारा इसके अंदर कूड़ा डाला जाता है और कूड़ा उठाने वाले कर्मी न के चलते यह डस्टबिन ओवर लोड हो जाते हैं और सारा कूड़ा सड़कों पर आकर गिर जाता है। लोगों का कहना है कि विभााग द्वारा हजारों रुपए का टैक्स वसूला जाता है लेकिन सुविधा के नाम पर कुछ भी नहीं दिया गया।

शहर में निरंतर सफाई का कार्य करवाया जाता है। अगर कहीं पर कूड़ा पड़ा रह गया है तो उसे जल्दी उठवा दिया जाएगा। – विजेंद्र कौशिक, अधिकारी स्थानीय निकाय विभाग, कालका

सड़कों के किनारे कूड़ा पड़ा रहना आम बात है न तो नगरपालिका और न ही 10 साल में नगर निगम सफाई व्यवस्था का पूर्ण प्रबंध कर सका है। शहर में किसी भी गली में चले जाएं किसी भी सड़क पर चले जाएं आपको सड़क किनारे कूड़ा पड़ा हुआ जरूर दिखेगा। इतना ही नहीं लावारिस पशु भी इस कूड़े में मुंह मारते हुए दिखते हैं। – दलजीत मेहरा, स्थानीय निवासी



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *