नागौर19 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा बैठक में सामने आई समस्याएं, कई मुद्दों पर चर्चा

उपखंड अधिकारी रामावतार कुमावत की अध्यक्षता में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा बैठक का आयोजन किया गया। उपखंड अधिकारी रामावतार कुमावत ने बैठक में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा चलाए जा रहे विभिन्न राष्ट्रीय कार्यक्रम की चर्चा करते हुए मुख्य रूप से ‘मेरा अस्पताल मेरा वार्ड’ पर विशेष ध्यान केंद्रित किया, जिसमें उन्होंने कहा कि प्रत्येक प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र और प्रत्येक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में उसी क्षेत्र के भामाशाह से संपर्क करके अस्पताल के वार्ड को गोद लेने के लिये प्रेरित करके उनसे वार्ड व अस्पताल में आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध करवाई जाने के प्रयास किये जावें।

उन्होंने सभी चिकित्सा संस्थान के प्रभारियों को निर्देश दिए कि वे आगामी सात दिवस में दानदाताओं से संपर्क कर चिकित्सा संस्थानों में सुविधाएं उपलब्ध करवाना सुनिश्चित करवायें, जिनमें वार्डों में पंखे, कुर्सी, बैठक परिसर में टीवी या एलईडी या अन्य कोई निर्माण कार्य करवाकर लक्ष्य प्राप्त करें।

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मीठड़ी के चिकित्सा अधिकारी प्रभारी डा. मनोज कुमार ने बैठक में जानकारी दी कि ‘मेरा अस्पताल मेरा वार्ड’ अभियान के तहत भामाशाह की ओर से मीठड़ी अस्पताल में मोर्चरी व अन्य कार्य को आगामी दिनों में करवा दिया जायेगा। क्षेत्र के अन्य चिकित्सा अधिकारी प्रभारियों ने भी अपने चिकित्सा संस्थान में भामाशाह के माध्यम से विभिन्न कार्य करवाकर उन्हें शीघ्र ही पूर्ण करवाने का भरोसा दिलाया।

बैठक में खंड मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाॅ. मूलचंद चौधरी ने चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के माध्यम से होने वाले राष्ट्रीय कार्यक्रमों का विस्तृत विवरण प्रस्तुत किया तथा परिवार कल्याण, टीकाकरण, राजश्री योजना, जननी सुरक्षा योजना, मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना, मुख्यमंत्री निशुल्क जांच योजना के बारे में रिपोर्ट प्रस्तुत की। उन्होंने निशुल्क जांच योजना के तहत बताया कि खंड में लैब टेक्नीशियन की कमी होने के कारण चिकित्सा संस्थान रोडू, रताऊ, सिलनवाद व भरनावा में निशुल्क जांच योजना प्रभावित है।

उपखंड अधिकारी कुमावत ने मुख्यमंत्री निशुल्क जांच योजना एवं मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना के अंतर्गत प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर आवश्यक दवाइयां उपलब्ध करवाने तथा सरकार द्वारा निर्धारित जांचे निशुल्क उपलब्ध करवाने के संबंध में प्रत्येक चिकित्सा अधिकारी प्रभारी को अवगत कराया।

उन्होंने सभी चिकित्सा अधिकारी प्रभारियों को यह निर्देश दिए कि प्रत्येक चिकित्सा संस्थान पर दवाइयों की मात्रा और जांचों की मात्रा की सूची डिस्प्ले करें। चिकित्सा संस्थान में सभी प्रकार की दवाइयों का इंद्राज उनके स्टोर में हो तथा समय-समय पर स्टॉक रजिस्टर को प्रमाणित किया जाना सुनिश्चित करें। एसडीएम ने निशुल्क दवा योजना और निशुल्क जांच योजना को गंभीरता से लेने और इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही नहीं करने के निर्देश दिए।
रिलीफ सोसायटी के हिसाब का परीक्षण करवाएं, बैठक में हुई चर्चा
बैठक में सभी चिकित्सा संस्थानों में गठित की गई राजस्थान मेडिकेयर रिलीफ सोसायटी की बैठकों के बारे में चर्चा की गई और उनकी भौतिक और वित्तीय प्रगति की समीक्षा की। उन्होंने सभी चिकित्सा अधिकारी प्रभारियों को अपने चिकित्सालय में राजस्थान मेडिकेयर रिलीफ सोसायटी की बैठक समय पर करने के निर्देश दिए। उपखंड अधिकारी कुमावत ने बताया कि राजस्थान मेडिकेयर रिलीफ सोसायटी की बैठक में किए जाने वाले व्यय को सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के अनुसार ही किया जाना चाहिये।

उन्होंने सोसायटी द्वारा होने वाले व्यय को खंड मुख्य चिकित्सा अधिकारी को परीक्षण करवाकर उसकी रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए। एसडीएम ने राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत टीम प्रभारी डा. मनीषा चौधरी और डॉ. प्रियंका को निर्देशित किया कि वह कार्य योजना के अनुसार कार्य में प्रगति सुनिश्चित करें।

इस अवसर पर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र लेडी के चिकित्सा अधिकारी प्रभारी डॉ. भरत पारीक ने केन्द्र की बाउंड्री वाल की ऊंचाई कम होने से उसे ऊंचा करवाने की मांग एसडीएम के समक्ष रखी तथा बताया कि केन्द्र की ओर से ग्राम पंचायत को पत्र दिया गया है।
सभी प्रभारी चिकित्सक सतर्क व ऊर्जावान रहें : एसडीएम
उपखंड अधिकारी रामअवतार कुमावत ने बताया कि खंड में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग में किसी चिकित्सा अधिकारी प्रभारी या अन्य कार्मिक का डेपुटेशन किसी कारण से कहीं पर कर रखा है तो इसकी रिपोर्ट प्रस्तुत की जावे। समीक्षा बैठक के अंत में सभी चिकित्सा अधिकारी प्रभारियों को सचेत किया गया कि औचक निरीक्षण के दौरान किसी भी प्रकार की कमी पाई जाती है, तो वे स्वयं जिम्मेदार रहेंगे। इसलिए राजश्री योजना, निशुल्क दवा योजना, निशुल्क जांच योजना की बकाया पेंडेंसी तत्काल पूर्ण कराएं।

उन्होंने सभी प्रभारियों को सतर्क रहने एवं पूर्ण ऊर्जा के साथ कार्य करने की अपेक्षा की। बैठक में डाॅ. वरुण शेखावत, डॉ. मुकेश मंडीवाल, डॉ. विकास गजराज, डॉ. भरत पारीक, डॉ. मनोज बायल, डॉ. मोहम्मद परवेज भाटी, डॉ. असद अली, डॉ. मनोज चांगल, डॉ. लोकेंद्र बिडियासर, डॉ. मनीषा चौधरी, डॉ. प्रियंका श्योराण आदि उपस्थित थे।



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *