• Hindi Information
  • Native
  • Haryana
  • Sonipat
  • Management On Dengue And Malaria, A Case Of Malaria Was Discovered, The Division Will Now Give Free Mosquito Mosquito Nets In Areas With Hirsch

सोनीपत6 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • कई कारणों से लगा मच्छरजनित रोगों पर ब्रेक, इम्युनिटी बूस्टर का इस्तेमाल, घरों पर वर्किंग, साफ-सफाई पर ध्यान

कोरोना भले ही कहर बरपा रहा हो, लेकिन इस बार अब तक मच्छर जनित रोगों पर कंट्रोल है। डेंगू व मलेरिया के लिए अगस्त, सितंबर और अक्टूबर पीक सीजन माना जाता है। पीछे सालों पर नजर डाले तो इस सीजन में मच्छरजनित रोगों से अस्पतालों के बेड भरे रहते थे। इन बीमारियों के इलाज पर जहां भारी भरकम खर्च आता था, वहीं डेंगू जानलेवा होने के कारण इसका डर भी मन में बना रहता था। परन्तु मलेरिया विभाग ने अक्टूबर माह को गंभीरता से लेते हुए हाई रिस्क एरिया में अपनी चौकसी बढ़ा दी है। विभाग अब जिले के हाई रिस्क वाले एरिया में निशुल्क माेस्केट मच्छरदानी देगा। इसकी शुरूआत आठ अक्टूबर से करेगा।

हर माह में ब्लड की 15 हजार स्लाइड ले रहा है विभाग

मच्छरजनित रोगों पर कंट्राेल करने के लिए फिल्ड में लगातार काम हो रहा है। विभाग की 165 टीमें मच्छरजनित रोगों को लेकर ब्लड स्लाइड ले रही हैं। हर महीने 15 हजार स्लाइड ली जा रही हैं। लेकिन अभी तक विभाग के आंकड़ों में डेंगू का कोई केस नहीं है। मलेरिया का एक केस है।

मलेरिया शाखा के इंचार्ज डॉक्टर जितेंद्र ने बुधवार को नागरिक अस्पताल स्थित डेंगू लैब का निरीक्षण किया। यहां उन्होंने सेंपल की जांच समय पर करने के लिए कहा। इसके साथ पर्याप्त किट रखने के निर्देश दिए। ताकि किसी को असुविधा न हो। मलेरिया शाखा से इंस्पेक्टर बलबीर ने बताया कि मच्छरजनित रोगों की जांच नागरिक अस्पताल में निशुल्क की जा रही है। इन दोनों बीमारियों के लक्षण वाले मरीज अस्पताल से जांच करवा सकते हैं।

यह कारण बताए जा रहे मच्छरजनित रोगों पर कंट्रोल के

  • इस बार कोरोना के कारण होम वार्किंग रही, बाजारों में भीड़ कम हुई, खेल ग्राउंड, सिनेमा घर बन्द रहे। डेंगू का मच्छर दिन में काटता है। ऐसे में सरकारी दफ्तर व निजी दफ्तराें में वर्किंग कम व सिमित स्टाफ में होना भी मच्छरजनित रोगों पर कंट्राेल का कारण मना जा रहा है।
  • इसके साथ कोरोना के कारण लोगों ने ज्यादातर समय घरों में रहने पर दिया है। घर पर रहने पर साफ सफाई पर ध्यान रहा। पानी की टंकी व कूलर की सफाई समय पर होने से भी लार्वा नहीं पनप पाया।

इस बार मच्छरजनित रोगों पर कंट्रोल है। डेंगू का कोई केस नहीं आया है। मलेरिया का एक केस मिला है। जिसकी हिस्ट्री बाहर की बताई है। मच्छरजनित रोगों पर पूरी तरह से कंट्रोल करने के लिए अक्टूबर माह पर उनका पूरी तरह से फोक्स है। जिले के हाई रिस्क एरिया जहां मच्छरजनित रोग फैलते हैं वहा मोस्टकेट मच्छरदानी लोगों को निशुल्क दी जाएगी। यह खास प्रकार की मच्छरदानी होती है। -जसवंत पूनिया, सिविल सर्जन सोनीपत।



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed