चौसा/नावानगर14 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

संबोधन के दौरान प्रत्याशी को आशीर्वाद दिलवाते नीतीश कुमार।

  • लालू के 15 साल को जंगल राज, अपने 15 साल को मंगल राज की नीतीश ने दी संज्ञा

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रविवार को चौसा में बक्सर से भाजपा प्रत्याशी परशुराम चतुर्वेदी तथा नावानगर में डुमरांव विधानसभा से जदयू प्रत्याशी अंजुम आरा के समर्थन में चुनावी जनसभा की। इस दौरान उन्होंने लालू-राबड़ी का नाम लिए बगैर बहुत कुछ कह दिया। इत्तेफाक यह कि मौजूद लोगों ने समझ भी लिया, और तालियां बजायीं। अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि पत्नी को मुख्यमंत्री बना कर पति खुद जेल चले गए।

परंतु महिलाओं के उत्थान के लिए कुछ नहीं किया। अभी और भी लोग जेल जाने वाले हैं। भ्रष्टाचारियों को छोड़ने वाले नही हैं। 15 वर्षों के शासन काल में केवल महिलाओं का उत्पीड़न हुआ। सामूहिक नरसंहार हुआ। डाक्टरों का अपहरण होता था। बिहार से व्यापारियों का पलायन होता था। परंतु हमारी सरकार ने महिलाओं को पंचायतों में 50 प्रतिशत आरक्षण दिया।

पंचायतों में महिला मुखिया, सरपंच, बीडीसी, सरकारी नौकरियों की बात करें तो भारी संख्या में महिला पुलिसकर्मी हैं। आंगनवाड़ी, आशा, जीविका के तहत महिलाएं स्वावलंबी हो रही है। बेटियों को साईकिल, पोशाक दी गयी। आज बेटियां पढ़ाई करने में अग्रसर हैं। आज 1 करोड़ 29 लाख से अधिक महिलाएं जीविका सहित अन्य स्वयंसेवी संस्थाओं से जुड़ी है। अपहरण उद्योग बंद हुआ। व्यापारियों का पलायन रूका।

15 साल लोग दिन में चलने से डरते थे

मुख्यमंत्री व उप मुख्यमंत्री की पहली सभा चौसा के आदर्श हाईस्कूल के मैदान में हुई। दोनों नेताओं ने विपक्ष पर हमला बोलते हुए उनके 15 साल के कार्य काल को जंगल राज बताते हुए कहा कि लोग दिन में चलने से डरते थे। अपने 15 साल के कार्यों को मंगल राज्य साबित करते हुए सड़क एवं पानी को हर घर पहुंचाने के साथ आपराधिक घटनाओं का ग्राफ बहुत नीचे हुआ है।

गिनाईं सरकार की उपलब्धियां

डुमरांव विधानसभा के नावानगर हाईस्कूल के मैदान में भी नीतीश कुमार व सुशील मोदी पहुंचे। यहां से उन्होंने जदयू प्रत्याशी अंजुम आरा के समर्थन में वोट मांगते हुए अपनी सरकार की उपलब्धियों को गिनाया। इस दौरान उन्होंने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि बिहार में सड़क, पूल, पुलिया, बाईपास सड़क का काम हुआ।

अपराध के मामले में 23 वें नंबर पर : उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय अपराध अभिलेख 2018 के अनुसार 15 वर्ष पूर्व अपराध के मामले में नंबर वन पर रहने वाला बिहार आज 23 वें नंबर पर है। राज्य की संपत्ति में 12.5 फीसदी के दर से हर वर्ष वृद्धि हो रही है। जबकि प्रति व्यक्ति आय 10.5 फीसदी के दर से है।

रोजगार सृजन के लिए कई योजनाएं : नीतीश ने कहा कि रोजगार के लिए कुशल युवा कार्यक्रम के तहत 10 लाख लोगों का प्रशिक्षण दिलाया। सरकारी सेवाओं में 35 प्रतिशत आरक्षण की व्यवस्था की। पशुपालन, मछली पालन, मुर्गा पालन जैसे कई तरह के कार्यों के लिए अनुदान पर ऋण दिया जा रहा है। जबकि बिजली की व्यवस्था अब सुदृढ़ हो गयी है। अब कंपनियां भी आएगी।



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *