}; (function(d, s, id){ var js, fjs = d.getElementsByTagName(s)[0]; if (d.getElementById(id)) {return;} js = d.createElement(s); js.id = id; js.src = "https://connect.facebook.net/en_US/sdk.js"; fjs.parentNode.insertBefore(js, fjs); }(document, 'script', 'facebook-jssdk'));


Adverts से है परेशान? बिना Adverts खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पटियालाthree घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • फेस्टिवल सीजन में शहर की सुरक्षा की पड़ताल
  • थापर, खंडा, लीला भवन, अर्बन एस्टेट चौक समेत कई चौराहों के कैमरे बंद

फेस्टिवल सीजन में शहर के eight चौराहों पर लोगों की सुरक्षा के लिए लगे सीसीटीवी कैमरों (तीसरी अांख) की नजर कमजोर हो गई है। मेन थापर यूनिवर्सिटी चौक, खंडा चौक, लीला भवन चौक, अर्बन एस्टेट चौक समेत कई चौराहों पर 30 कैमरे लगे हैं। इनमें से 17 से ज्यादा खराब हैं। सिर्फ बस स्टैंड, शेरांवाला गेट पर के कैमरे चल रहे हैं। जबकि अन्य चौराहों के कुछ कैमरे खराब हैं और कुछ चल रहे हैं।

इस बीच राहत की बात यह है कि ट्रैफिक पुलिस ने नगर निगम को शहर के मेन 28 से 33 एंट्री व एग्जिट चौकों पर इंटेलीजेंट ट्रैफिक सिग्नल लगाने का प्रपोजल भेजा है। निगम ने प्रपोजल पर टेंडर प्रक्रिया शुरू करके प्रपोजल सरकार को भेज दिया है। निगम एक्सईएन सुरेश कुमार ने बताया कि चंडीगढ़ से प्रपोजल की वैटिंग हो गई है। अब सरकार टेंडर लगाने जा रही है। इसके बाद यह प्रोजेक्ट शहर को मिलेगा। शहर के अलग-अलग बाजारों में पुलिस को दुकानदारों का भी बड़ा सहारा है। एक अनुमान के मुताबिक अलग-अलग बाजारों में दुकानदाराें व मार्केट एसाेसिएशनाें द्वारा करीब three हजार से ज्यादा कैमरे लगाए हुए हैं। इन बाजारों में कोई भी अप्रिय घटना होने पर पुलिस इन कैमरों का सहारा लेती है। इससे आरोपी तक पहुंचने में मदद मिलती है।

चोर भी हुए हाईटेक
सीसीटीवी कैमरे से जहां केस ट्रेसिंग में पुलिस को मदद मिली है, वहीं चोर भी हाईटेक हो गए हैं। कुछ दिन पहले थाना लाहौरी गेट के पास शिव मंदिर में चोरी करने के बाद चोरों ने पकड़े जाने के डर से पहले सीसीटीवी से फुटेज डिलीट की और फिर बाहर निकले। यही कारण है कि इस केस में पुलिस के हाथ अब तक खाली है।

अक्टूबर महीने में हुईं 43 चोरियां कई मामले कैमरे ने हल करवाए
अक्टूबर महीने में शहर में 43 चोरियां हुईं। इनमें 20 बाइक, स्कूटी चोरी और 5 घरों में चोरियां हैं। बाकी छोटी-मोटी चोरियां शामिल हैं। पुलिस ने सीसीटीवी कैमरे की मदद से इनमें से कई मामले हल कर चुकी है। बता दें कि शंभू शैलर में चौकीदार का मर्डर भी सीसीटीवी से ही हल हुआ था। इसके अलावा थाना अनाज मंडी पुलिस ने डीसीडब्ल्यू नजदीक मोबाइल स्नैचर गैंग को सीसीटीवी की मदद से पकड़ा था।

यदि कैमरे खराब हैं तो सही करवाए जाएंगे
एसपी ट्रैफिक पलविंदर सिंह चीमा का कहना है कि शहर के चौराहों के अलावा बाजारों में पब्लिक की मदद से कैमरे लगाए गए हैं। पुलिस समय-समय पर दुकानदारों की मदद लेती हैं। चौक-चौराहों पर सीसीटीवी कैमरे खराब होने की जानकारी नहीं हैं। यदि ऐसा है तो थाना इंचार्जों से बात कर सही करवाए जाएंगे।



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *