पटना18 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

पटना में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान बोलते असदुद्दीन ओवैसी।

  • मुस्लिम वोटरों पर किसी का अधिकार नहीं है, कोई किस हैसियत से दावा करता है समझ में नहीं आता
  • बिहार विधानसभा चुनाव में ओवैसी की पार्टी 50 सीटों पर अपना उम्मीदवार उतारेगी

विधानसभा चुनाव में इस बार असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम बिहार में अपनी मौजूदगी बढ़ाने में लगी है। शनिवार को पार्टी प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने पटना में प्रेस कॉन्फ्रेंस किया और कहा कि हम बिहार में एक नया गठबंधन बना रहे हैं। गठबंधन का नाम यूडीएसए (यूनाइटेड डेमोक्रेटिक सेक्युलर एलायंस) रखा गया है। इसके लिए एआईएमआईएम और देवेंद्र यादव की पार्टी समाजवादी जनता दल के बीच गठबंधन हुआ है। गठबंधन को और बड़ा करने के लिए कई पार्टियों से बात चल रही है।

राजद द्वारा वोट कटवा कहे जाने के सवाल पर ओवैसी ने कहा कि जो लोग हमें वोटकटवा कहते हैं वे 2019 के चुनाव में हुए अपने हश्र को याद कर लें। मुस्लिम वोटरों पर किसी का अधिकार नहीं है। कोई मुस्लिम वोटरों पर किस हैसियत से दावा करता है यह समझ में नहीं आता है।

प्रेस कॉन्फ्रेंस में पूर्व सांसद और समाजवादी जनता दल के नेता देवेंद्र प्रसाद ने कहा कि बिहार में विपक्ष अपना कर्तव्य नहीं निभा रही है। तीस साल से चीनी मिल और जुट मील बंद पड़ा है। मजदूर पलायन कर रहे हैं। बिहार में बेरोजगारी ज्यादा है। लोगों को रोजी-रोटी के लिए दूसरे राज्य में जाना पड़ता है। पूरे देश के किसानों में कहर मचा हुआ है। उनका हाल बेहाल है।

50 सीटों पर चुनाव लड़ेगी असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी
बिहार में मुस्लिम वोट बैंक पर राजद और कांग्रेस अपना दावा जताते रहे हैं। असदुद्दीन ओवैसी ने मुस्लिम बहुत सीमांचल के जिलों में अपनी उपस्थिति जताकर दोनों पार्टियों के लिए नई चुनौती पैदा कर दी है। किशनगंज में विधानसभा की एक सीट जीतकर उन्होंने बिहार में अपनी ताकत का परिचय पहले ही करा दिया है।

इस बार ओवैसी की पार्टी 50 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। पार्टी ने 32 सीटों का ऐलान भी कर दिया है। एआईएमआईएम ने जिन 32 सीटों को चिह्नित किया है उनमें से महज दो सीटें आरक्षित हैं, बाकी सीटें सामान्य जाति के लिए हैं। इनमें से ज्यादातर सीटें मुस्लिम बहुल मानी जाती हैं।

0



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *