• Hindi Information
  • Native
  • Haryana
  • Babita Phogat Replace | Worldwide Wrestler Babita Phogat Resigned As Deputy Director In Haryana Sports activities Division

चरखी दादरी/चंडीगढ़5 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

कुश्ती खिलाड़ी एवं युवा भाजपा नेत्री बबीता फौगाट, जिन्हें अभी थोड़े दिन पहले ही खेल विभाग का डिप्टी डायरेक्टर बनाया गया था और आज उन्होंने इस्तीफा दे दिया।

  • 2019 में चरखी दादरी सीट से विधानसभा चुनाव हार गई थीं बबीता, इसी साल 30 जुलाई को उन्हें डिप्टी डायरेक्टर नियुक्त किया था
  • सूबे में बरोदा विधानसभा उपचुनाव और बिहार विधानसभा चुनाव में भाजपा के लिए प्रचार करेंगी दंगल गर्ल बबीता फोगाट

कुश्ती में देश का नाम रौशन कर चुकी बबीता फोगाट ने बुधवार को खेल विभाग का डिप्टी डायरेक्टर पद छोड़ दिया है। उन्होंने लिखा है कि वह सरकारी नौकरी कर पाने में असमर्थ हैं। हालांकि बड़ी वजह बिहार विधानसभा चुनाव और यहां हरियाणा में बरोदा विधानसभा सीट के लिए हो रहे उपचुनाव है। इस बात की पुष्टि बबीता ने खुद की है। साथ ही जानकारी मिली है कि बबीता आज सीएम मनोहर लाल से मुलाकात कर सकती हैं।

बताते चलें कि चरखी दादरी जिले के गांव बलाली के द्रोणाचार्य अवार्डी पहलवान महावीर सिंह फोगाट की बेटी बबीता ने देश-दुनिया में कुश्ती में बड़ा नाम चमकाया है। 2014 में वह कॉमनवेल्थ गेम्स में मेडल विनर रही हैं। वह हरियाणा पुलिस में डीएसपी के पद पर भी रही हैं। उनकी और उनकी बड़ी बहन गीता फोगाट की खेल के क्षेत्र की उपलब्धि पर बॉलीवुड के फिल्म निर्माता-निर्देशक आमिर खान ने फिल्म दंगल बनाई थी, जो दर्शकों को बहुत ही पसंद आई।

2019 में जब हरियाणा में विधानसभा चुनाव हुए तो उनसे ठीक पहले बबीता और उनके परिवार ने भारतीय जनता पार्टी जॉइन कर ली थी। पार्टी ने बबीता पर चरखी दादरी सीट से दांव खेला, लेकिन वह चुनाव हार गईं। इसके बाद उन्हें इसी साल 30 जुलाई को खेल विभाग में डिप्टी डायरेक्टर के पद से हरियाणा सरकार ने सम्मानित किया था। उनके साथ ही इसी पद पर कबड्‌डी खिलाड़ी कविता देवी को भी नियुक्ति मिली थी।

प्रधान सचिव को बबीता की तरफ से भेजा गया त्यागपत्र संबंध नोटिस।

प्रधान सचिव को बबीता की तरफ से भेजा गया त्यागपत्र संबंध नोटिस।

बुधवार को बबीता ने इस पद से इस्तीफा दे दिया है। अपने इस्तीफे में सरकारी नौकरी करने में असमर्थ होने का हवाला दिया है। उन्होंने लिखा है कि एक महीने का नोटिस मानते हुए मेरा इस्तीफा स्वीकार किया जाए। बबीता का कहना है कि उनके सामने कुछ ऐसी परिस्थितियां हैं, जिन्हें टाला नहीं जा सकता था और इसी वजह से उन्होंने यह कदम उठाया है। इसी साथ बबीता फोगाट ने यह भी बताया है कि उन्हें सूबे में बरोदा विधानसभा उपचुनाव और बिहार विधानसभा चुनाव में भाजपा के लिए प्रचार में सक्रिय भूमिका निभानी है।



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *