रायपुर25 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

राज्य स्तरीय हाईपावर कमेटी ने कहा- अमित जोगी को आदिवासी नहीं माना जा सकता है। बेटे की जाति अभी तक पिता के नाम से ही होती है।

  • कांग्रेस प्रत्याशी केके ध्रुव ने निर्वाचन अधिकारी से की जाति को लेकर शिकायत
  • कहा- समिति के आदेश को हाईकोर्ट में चुनौती दी गई, लेकिन इस पर स्थगन नहीं

मरवाही उपचुनाव को लेकर छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस अध्यक्ष अमित जोगी का नामांकन खारिज कर दिया गया है। हाईपावर कमेटी ने उन्हें आदिवासी नहीं माना। इसके चलते निर्वाचन अधिकारी ने फैसला लिया है। समिति ने कहा है कि अजीत जोगी को कंवर नहीं माना गया। बेटे की जाति अभी तक पिता से ही होती है।

राज्य स्तरीय हाई पावर कमेटी की ओर से कहा गया है कि 20 से 23 सितंबर को डाक के जरिए अमित जोगी को नोटिस भेजा गया था। समिति ने यह भी तर्क दिया कि 23 अगस्त 2019 को कमेटी ने अजीत जोगी को कंवर नहीं माना था। बेटे की जाति पिता की जाति से अभी निर्धारित होती है। ऐसे में अमित जोगी को कंवर नहीं माना जा सकता है।

अमित जोगी का आरोप- मुझे छोड़ सबको खबर थी
वहीं दूसरी ओर अमित जोगी ने कहा कि कल (शुक्रवार) रातों रात उच्च स्तरीय जाति छानबीन समिति ने उनका प्रमाणपत्र निरस्त किया। इस बात की खबर उनको छोड़कर बाकी सभी को थी। उन्होंने कहा कि पढ़ने के लिए समय मांगा, वो भी नहीं दिया गया। साथ ही एक शेर भी ट्वीट किया है- कातिल ही मुंसिफ है, क्या मेरे हक में फैसला देगा।

कांग्रेस उम्मीदवार भी निर्वाचन अधिकारी से की थी शिकायत
दरअसल, जोगी परिवार के जाति विवाद को लेकर पहले से ही हंगामा मचा हुआ था। इस बीच मरवाही उपचुनाव में नामांकन करने के बाद कांग्रेस प्रत्याशी केके ध्रुव ने भी शिकायत कर दी। निर्वाचन अधिकारी को दिए गए पत्र में उम्मीदवार केके ध्रुव ने कहा कि हाईपावर कमेटी अजीत जोगी के जाति प्रमाणपत्र को निरस्त कर चुकी है।

उन्होंने यह भी कहा कि समिति के इस आदेश को हाईकोर्ट में चुनौती दी गई थी, लेकिन इस पर कोई स्थगन नहीं दिया गया। इसके साथ ही एफआईआर दर्ज कर जांच पर भी रोक नहीं लगाई गई है। जब पिता को ही गैर आदिवासी वर्ग का माना गया है तो अमित जोगी आदिवासी नहीं हो सकते। इस आधार पर अमित जोगी का नामांकन रद्द किया जाना चाहिए।





Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *