लुधियाना15 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • सेक्टर-32 ड्राइविंग टेस्ट सेंटर में 300 रुपए देकर लाइसेंस अप्रूव होने के मामले की जांच को चंडीगढ़ से पहुंचे अफसर

एसडीएम दफ्तर के अंतर्गत आते सेक्टर-32 ड्राइविंग टेस्ट सेंटर में 300 रुपए देकर लाइसेंस अप्रूवल होने का मामला एसटीसी दफ्तर में पहुंचा तो उन्होंने एडिशनल एसटीसी गुरविंदर सिंह सहोता, सुपरिंटेंडेंट एके गोयल समेत कई ओहदेदार जांच के लिए लुधियाना आए। उन्होंने मंगलवार को शिकायतकर्ता, एसडीएम और स्टेनो के बयान दर्ज किए। इसके बाद उन्होंने सेक्टर-32 चंडीगढ़ रोड का दौरा किया और लाइसेंस की फाइलें चेक कर कुछ समय बाद चल दिए।

इस दौरान एसडीएम बलजिंदर सिंह ढिल्लों दफ्तर में बैठे एडिशनल एसटीसी गुरविंदर पाल सिंह और सुपरिंटेंडेंट ने बताया कि रिपोर्ट तैयार कर एसटीसी को सौंपी जाएगी। एसडीएम दफ्तर के अंतर्गत आते सेक्टर-32 चंडीगढ़ रोड और आरटीए में फैले भ्रष्टाचार, विंटेज नंबर की कंप्लेंट, समय पर लोगों को आरसी-लाइसेंस न मिलना, नंबर प्लेट समय पर न लगना, लाइसेंस की स्लॉट बुकिंग में हेराफेरी पर सवाल पूछे तो उन्होंने रटारटाया जवाब दिया कि उन्हें लिखकर शिकायत दें तो वह एसटीसी को भेज इसका हल करवाएंगे।

क्लर्क के दफ्तर में कुर्सियों पर बैठे पाए गए बाहरी लोग
इस दौरान एडिशनल एसटीसी ने टीम के साथ आरटीए दफ्तर में दौरा किया, जहां सभी बंद पाए गए। क्लर्क रोहित का कमरा खुला था, जहां कुछ लोग वहां कुर्सी पर बैठे थे। उन्होंने लोगों से पूछा तो कहा कि वह काम कराने आए हैं और क्लर्क का इंतजार कर रहे हैं। इसी दौरान स्कूल बस ऑपरेटरों ने अपनी समस्याएं भी उनके समक्ष रखी और स्कूल बसों को कुछ राहत देने की मांग उठाई।

बस ऑपरेटर पुष्पिंदर सिंह जॉली और गुरविंदर सिंह रिंपी ने एनआईसी के इंचार्ज और सोसाइटी के कोऑर्डिनेट के खिलाफ कंप्लेंट की। उन्होंने कहा कि लाइसेंस बुक कराने पर स्लॉट पहले ही बुक कर लिए जाते हैं। वहीं, फैंसी नंबरों की बोली को लेकर भी सिस्टम हैक कर चहेते को कम दाम में दे दिए जाते हैं। इससे महकमे को लाखों को चूना लग रहा है। इस बारे में उनके बयान में कॉपी पर दर्ज किए गए।

ये भी किए सवाल

  • विंटेज नंबरों की कंप्लेंट दो महीने से की है, उस पर क्या कार्रवाई हुई।
  • आरटीए-एसडीएम दफ्तर में भ्रष्टाचार का बोलबाला है, यह क्यों नहीं रुक रहा।
  • सेक्टर-32 से लाइसेंस-आरसी समय पर लोगों को नहीं मिल पा रही।
  • लाइसेंस मिलने का समय 10-15 दिन का है, परंतु महीना बीतने पर भी नहीं मिल रही।
  • नंबर प्लेट सेंटर पर लोग खुद प्लेट वाहन से उतार रहे हैं और सुविधा जीरो है।
  • लाइसेंस की बैकलॉग एंट्री क्यों नहीं खुल रही।



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed