}; (function(d, s, id){ var js, fjs = d.getElementsByTagName(s)[0]; if (d.getElementById(id)) {return;} js = d.createElement(s); js.id = id; js.src = "https://connect.facebook.net/en_US/sdk.js"; fjs.parentNode.insertBefore(js, fjs); }(document, 'script', 'facebook-jssdk'));


Advertisements से है परेशान? बिना Advertisements खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

29 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

जयपाल सिंह स्टेडियम में लगी पटाखे की दुकान

  • जयपाल सिंह स्टेडियम, मोरहाबादी मैदान और हरमू मैदान में लगा है पटाखों का बाजार

पटाखा बाजार लगने के एक सप्ताह बाद राज्य सरकार ने आदेश जारी किया है कि रांची में केवल ग्रीन पटाखे ही बिकेंगे। पहले से ही कोरोना का मार झेल रहे पटाखा कारोबारियों के लिए सरकार का यह निर्देश एक और मुसीबत बनकर आई है। पटाखा कारोबारी राजू गुप्ता जयपाल सिंह स्टेडियम में पटाखा का बाजार लगाए हैं। कहते हैं कि इस बार पहले ही कारोबारी पिछले साल की तुलना में अभी तक 40 फीसदी कम का कारोबार हुआ है। सरकार की सख्ती के बाद अब व्यापार में और कमी आएगी। पटाखा कारोबारियों ने बताया कि बाजार में 80 फीसदी से ज्यादा ग्रीन पटाखे हैं ।20 फीसदी अन्य पटाखे हैं। अब इसकी बिक्री पर रोक लगा दी गई है।

लोगों में उत्साह लेकिन सख्ती की पड़ेगी मार
मोरहाबादी मैदान में पटाखा की दुकान लगाने वाले राजू गुप्ता ने बताया कि कोरोना के बाद लोगों में दीपावली को लेकर उत्साह दिख रहा है। लोग खरीदारी भी कर रहे हैं। लेकिन सरकार की सख्ती के कारण लोग पटाखा खरीदने से बच रहे हैं। उन्होंने बताया कि अब रांची में दो घंटे ही पटाखे जलाने का आदेश है। इसके कारण लोग पटाखा खरीदने से बच रहे हैं। इसका खामियाजा व्यापारियों को भुगतना पड़ रहा है।

ग्रीन पटाखों में आवाज कम रोशनी ज्यादा
पटाखा व्यापारी के मुताबिक ग्रीन पटाखे और सामान्य पटाखों में ज्यादा का अंतर नहीं होता है। दोनों एक ही तरह के दिखते हैं। ग्रीन पटाखों में बारूद का इस्तेमाल कम किया जाता है। इसके कारण इसमें आवाज कम होता है। जबकि इन पटाखों में रोशनी ज्यादा होती है। ग्रीन पटाखों में इस बात का ध्यान रखा जाता है कि ध्वनि और वायु प्रदूषण न हो।

रांची के बाजार में पटाखों की कीमत
बीड़ी बम- 40 रुपए पैकेट
फुलझड़ी- 90-350 रुपए पैकेट
चकरी- 80-300 रुपए पैकेट
सूतरी बम- 50- 150 रुपए पैकेट
स्काई शॉट-200 से 4000 रुपए पैकेट



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *